SEO क्या है ? कितने प्रकार का होता है। ( What is SEO )

What is SEO: आज के इस टूटोरियल पोस्ट में हम बात करने वाले है की SEO यानि Search Engine Optimization के बारे में सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है और एक वेबसाइट या ब्लॉग के लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्यों जरूरी है। यदि आप एक ब्लॉगर है या वेबसाइट को चलाते तो SEO को लेकर बहुत परेशान रहते है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। इस पोस्ट में हम आपको Search Engine Optimization से जुड़ी सभी जानकारी आपके साथ साझा करेंगे। इस पोस्ट के माध्यम से आप जानेगे की अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्रैफिक या पड़ने वालो की संख्या में कैसे बढ़ोत्तरी की जायें।

सर्च इंजन क्या होता है ( What is a Search Engine )

इंटरनेट पर जानकारियों का बहुत बड़ा भंडार है जहाँ पर आपको सभी जानकारी बहुत आसानी से प्राप्त हो जाती है। सर्च इंजन के माध्यम से ही आप किसी सटीक जानकारी तक पहुँच प्राप्त करते है, और यहाँ पर हजारों website या blog डेली अपडेट किये जाते है। किसी भी information को खोजने के लिए सर्च इंजन एक बहुत अच्छा जरिया है, जहाँ पर जो भी query सर्च करते है तो आपको उससे सम्बंधित आर्टिकल या वीडियो डिसप्ले पर दिखने लगते है। जिसे आप रीड करके अपनी जिज्ञासा को दूर कर सकते है।

What is Keyword in SEO 

सर्च इंजन पर कोई भी व्यक्ति किसी query को डालता या सर्च करता है तो हम उसे Keywords कहते है, इस कीबर्ड की सहायता से ही सर्च इंजन आपकी वेबसाइट या ब्लॉग तक जाता है। अब हम जान लेते है की सर्च इंजन काम कैसे करता है, जब आप किसी आर्टिकल लिखते है तो आप उसमे keyword का उपयोग करते है और अपने आर्टिकल को index करते है। जिससे कोई भी सर्च इंजन में उस सम्बंधित कीवर्ड को टाइप करता है तो सर्च इंजन जितनी भी index की गई वेबसाइट में उस कीवर्ड को मैच कराता है और उसके आधार पर व्यक्ति को रिजल्ट पेश कर देता है। यदि आपने उस सम्बंधित keyword को अपनी पोस्ट में डाला है तो आपकी पोस्ट सबसे पहले पेज पर रैंक करेगी, जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफिक में बढ़ोत्तरी होगी।

SEO के लाभ ( Benefits of SEO )

सर्च इंजन के माध्यम से आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को बिना किसी रुपये खर्च किये लोगों या यूजर तक पहुंचा सकते है, Search Engine Optimization एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा आप अपने Page, Articles, Websites और Blog को सर्च में ला सकते है, यह आपके आर्टिकल के कंटेंट की गुणवत्ता पर निर्भर करता है।

SEO यानि “Search Engine Optimization” क्या है 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन ( search engine optimization ) या seo एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिससे आपके वेबसाइट या ब्लॉग को ऑप्टिमाइज़ करके सर्च इंजन में लाया जा सके। seo को समझने से पहले आपको सर्च इंजन को समझना जरूरी है, search engine optimization किसी Blog या Website के लिए जरूरी क्यों है। 

SEO को हम एक उदाहरण के माध्यम से समझते है, यदि आप किसी Niche पर ब्लॉग या आर्टिकल पब्लिस करते है किन्तु आप उन सभी नियमों का पालन नहीं करते है जिसके द्वारा सर्च इंजन आपकी वेबसाइट या ब्लॉग तक पहुँच सकता है। जिससे आपने जो भी मेहनत अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर की है, वह सब व्यर्थ चली जाती है।

What is Crawling in Hindi ( क्रॉलिंग क्या है )

क्रॉलिंग एक सॉफ्टवेयर प्रक्रिया है जिसमे आपके द्वारा लिखी गई, सभी आर्टिकल या पोस्ट को software के द्वारा पड़ा जाता है और इस प्रक्रिया को crawling या Spidering कहते है। गूगल के क्रॉलर का नाम Googlebot है जो आपकी वेबसाइट की सभी आर्टिकल को लगातार पड़ता रहता है। गूगलबोट आपकी वेबसाइट के new update को तभी पड़ पायेगा, जब आप अपने आर्टिकल को SEO के नियमों के अनुसार लिखते है।

यदि Googlebot आपकी वेबसाइट पर पब्लिस किये गए आर्टिकल को न पड़ पाये, इसका मुख्य कारण है की आपने आर्टिकल में SEO नहीं किया है, जिस कारण से गूगलबोट आपके आर्टिकल को पड़ में समर्थ नहीं है, आपकी पूरी मेहनत बेकार चली जाती है। SEO के द्वारा आप वेबसाइट या ब्लॉग को सर्च इंजन के लिए बेहतर बना सकते है, जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग गूगल के first page पर रैंक करता है, जिससे आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक या विज़िटर की संख्या बढ़ जाती है और इसके साथ ही आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की popularity में भी बढ़ोत्तरी होती है।

SEO के प्रकार  ( Types of Search Engine Optimization )

  • On Page SEO ( ऑन पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन )
  • Off Page SEO ( ऑफ पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन )

On Page SEO ( ऑन पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन )

ऑन पेज seo का अर्थ है की आपके ब्लॉग को यूजर फ्रेंडली बनाना होता है, इसमें आप अच्छे keyword का उपयोग करके हाई क्वालिटी का कंटेंट लिखते है। जिससे गूगल का सॉफ्टवेयर गूगलवोट को पहचान में कोई परेशानी न हो और उसे सर्च इंजन में इंडेक्स कर पाए।

Article को लिखने का तरीका 

आर्टिकल को लिखने का मतलब है की आप जो भी जानकारी यूजर को प्रोवाइड करा  रहे है, वह बिलकुल सटीक होनी चाहिए और उसमे किसी प्रकार की गलत जानकारी नहीं होनी चाहिए। आपकी पोस्ट में कम से कम 500 से 1000 शब्दों का होना जरूरी है। आर्टिकल को इंटरनेट से कॉपी नहीं करना चाहिए। आर्टिकल को लिखते समय हेडिंग का पूर्ण ध्यान चाहिए, जिससे यूजर को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े।

वेबसाइट की स्पीड पर जरूर ध्यान देना चाहिए 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में आपके ब्लॉग या वेबसाइट के स्पीड बहुत जरूरी है। वेबसाइट के स्पीड अच्छी होने से आपके ब्लॉग पर यूजर ज्यादा मात्रा में आते है क्योकि आपकी वेबसाइट जल्दी से खुल जाती है और यूजर को 4 से 5 सेकंड का भी समय नहीं लगता है यदि आपकी वेबसाइट 4 से 5 में नहीं ओपन होती है तो यूजर किसी अन्य वेबसाइट या ब्लॉग पर चला जाता है।

On Page SEO में आपको निम्न बातों का ध्यान रखना है 

  • आपकी वेबसाइट का नेविगेशन बहुत अच्छा चाहिए
  • आपके आर्टिकल या पेज का टाइटल क्लीकी होना बहुत जरूरी है
  • आप अच्छे यूआरएल का निर्माण करना अनिवार्य है
  • आपके यूआरएल और टाइटल फोकस कीवर्ड का होना जरूरी है
  • पेज या आर्टिकल में नेक्स्ट जनरेशन इमेज का प्रयोग करना चाहिए

Off Page SEO ( ऑफ पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन )

ऑफ पेज seo का मतलब एक तरह से मार्केटिंग से होता है, जिसमे आपके ब्लॉग को लोगो तक पहुँचाया जाता है या फिर यु कह लाजिये की आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का प्रमोशन किसी अन्य वेबसाइट के द्वारा किया जा रहा है, जिसमे आप बैकलिंक बनाते है जिससे आपकी ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ता है। ऑफ पेज seo का दूसरा तरीका यह है की आप सोशल मीडिया पर अपने अकाउंट को बना करके अपने ब्लॉग या वेबसाइट का लिंक पेस्ट करते है जिससे आपको सोशल मीडिआ से भी ट्रैफिक मिलने लगता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.